Breking News: मध्य प्रदेश राज्यपाल लालजी टंडन ने लखनऊ के मेदांता अस्पताल में अंतिम ली सांस, जानें क्या हुआ था? पढ़िये पूरी ख़बर

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन (Governor Lalji Tandon) का आज सुबह निधन हो गया। उन्होंने यूपी के लखनऊ के मेदांता अस्पताल में अंतिम सांस ली। 85 वर्षीय सांसद राज्यपाल लालजी टंडन लंबे समय से बीमार थे। पेशाब में दिक्कत के कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लालजी टंडन की मौत की जानकारी उनके बेटे आशुतोष टंडन ने ट्वीट कर दी थी।
updated24 news
Report: Rajendra Kumar

Lalji Tandon death news
मप्र राज्यपाल लालजी टंडन का निधन मेदांता हॉस्पॉटल में सुबह 5:00 बजे हुआ 
राज्यपाल लालजी टंडन को लम्बे समय से पेशाब में दिक्कतों का सामना कर रहे थे।  
किडनी के साथ-साथ लिवर फंक्शन भी गड़बड़ा गया था। 
लालजी टंडन लंबी बीमारी कोमोरी और न्यूरो मांसपेशियों की कमजोरी के कारण बाई-रेप वेंटिलेटर को सहन करने में असमर्थ थे। पुनः सोमवार शाम को फिर से बिगड़ता है, तो उसे ट्रेकोस्टॉमी के माध्यम से फिर से क्रिटिकल केयर वेंटीलेटर पर ले जाया जाता है। बीच में, उसकी हालत में सुधार की खबरें आई थी। लेकिन मंगलवार की सुबह इलाज के दौरान अस्पताल में उसकी मौत हो गई।

Shri Lalji Tandon was well-versed with constitutional matters. He enjoyed a long and close association with beloved Atal Ji. 
In this hour of grief, my condolences to the family and well-wishers of Shri Tandon. Om Shanti.

— Narendra Modi (@narendramodi) July 21, 2020
मेदांता अस्पताल के निदेशक डॉ. राकेश कपूर ने कहा कि मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का आज सुबह 5:35 बजे निधन हो गया । उनकी किडनी के साथ-साथ लिवर फंक्शन भी गड़बड़ा गया था। वहीं, मौत की सूचना के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर लालजी टंडन को श्रद्धांजलि दी।

बाबूजी नहीं रहे

— Ashutosh Tandon (@GopalJi_Tandon) July 21, 2020

लालजी टंडन कब मंत्री बने

लालजी टंडन 1978 से 1984 और 1990 से 96 तक दो बार उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य थे। वह यूपी सरकार में 19991 से 92 तक मंत्री भी बने। इसके बाद, लालजी टंडन लगातार तीन बार चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे। । । 1996 से 2009 तक। वह 1997 में फिर से विकास मंत्री बने।

लालजी टंडन का राजनीतिक सफर कब शुरू हुआ?

12 अप्रैल 1935 को लखनऊ में जन्मे लालजी टंडन ने 1958 में शादी कर ली। उन्होंने अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी कर ली है। उनके पुत्र गोवलजी टंडन वर्तमान में यूपी की योगी सरकार में मंत्री हैं। राजनीतिक यात्रा की शुरुआत 1960 में मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने की थी। टंडन दो बार पार्षद और दो बार विधान परिषद सदस्य के रूप में चुने गए। उन्होंने इंदिरा गांधी की सरकार के खिलाफ जेपी आंदोलन में भी हिस्सा लिया। लालजी टुंडन को यूपी की राजनीति में कई महत्वपूर्ण प्रयोगों के लिए भी जाना जाता है। यह भी माना जाता है कि उन्होंने 90 के दशक में राज्य में भाजपा और बसपा की गठबंधन सरकार बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया था।
खबरों के लिए इस न्यूज़ को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और अपडेट्स पाते रहें।
https://www.updated24.com/

Comment