MP Pollice: गूना में शिवराज की पूलिस की असहनीय दरिंदगी, महिला दम्पत्ति के कपड़े फाड़े किसान आदमी को पीटा – मध्य प्रदेश

गुना मध्य प्रदेश | पुलिस का किसानों को मारना और महिला दंपत्ति का कपड़े फाड़ देना कहां तक जायज है क्यों मारा क्या था विवाद, अभी तक क्यों नहीं हुई उचित कार्यवाही? बड़ा सवाल बन के रह गया है। 
विपक्ष में बैठे पार्टी कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और MP कांग्रेस ने इसका विरोध किया है, सरकार पर सवाल उठाये है। सोर्सेस ट्वीटर
MP pollice ki nindniya kartut, poolice ki gundagardi, updated 24 news, updated24.com
सावित्री देवी ने कहा, “हम नहीं जानते कि यह किसकी भूमि है। हम लंबे समय से इसकी खेती कर रहे हैं। जब हमारी खड़ी फसल नष्ट हो जाती है, तो हमारे पास खुद को मारने के अलावा कोई विकल्प नहीं होता है।”
   राज्य के राजस्व विभाग की एक टीम ने पुलिस के साथ मिलकर मंगलवार को जमीन का दौरा किया और दंपति को बाहर निकालने के लिए एक चारदीवारी का निर्माण शुरू किया।  इस जोड़े ने विरोध किया, जिससे कैमरा हमला हुआ।

शर्म आनी चाहिए सरकार और पुलिस को

ऐसा क्या था विवाद पुलिस ने लाठीचार्ज क्यों की यह जानकारी अभी तक सामने नहीं आ पायी है। क्या हो सकता है जमीनी विवाद या फिर सरकार का अत्याचार।  इस तरह गरीब किसानों को इतना बेरहमी से पीटना और महिला के कपड़े तक फाड़ देना मध्य प्रदेश पुलिस की शर्मनाक घटना शर्मसार करती है। 

ये शिवराज सरकार प्रदेश को कहाँ ले जा रही है ? 
ये कैसा जंगल राज है ?
गुना में कैंट थाना क्षेत्र में एक दलित किसान दंपत्ति पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों द्वारा इस तरह बर्बरता पूर्ण लाठीचार्ज।

— Office Of Kamal Nath (@OfficeOfKNath) July 15, 2020

क्या मरने के लिए केवल किसान ही है

अगर गरीब किसानों का मामला है तो सरकार को क्या इस तरह पेश आनी चाहिए ? शिवराज सरकार के पुलिस के किसानों पर अत्याचार कोई नया मामला नहीं है इस तरह के मामले पुलिस वर्षों से करती आ रही है, शिवराज मामा कंश मामा बन कर चुप-चाप देखते रहे।  किसानों को गोली मरवा देना  जिसमें किसानों की मौत हो जाती है 6 किसानों की मौत हो जाती है 
मंदसौर गोली कांड – बात 6 जून 2017 की है जब मध्यप्रदेश की शिवराज पुलिस ने मंदसौर जिले में 6 किसानों को गोली मारकर हत्या करवा दी थी और इस पर कोई जांच भी नहीं हुई, होती भी कैसे जब जांच कराने वाला ही हत्यारा हो। क्या मरने के लिए केवल किसान ही है यह सरकार से बड़ा सवाल बन जाता है खासकर जब कंस मामा मध्य प्रदेश की सरकार संभाल रहे हो। 

क्या ऐसी हिम्मत इन क्षेत्रों में तथाकथित जनसेवकों व रसूख़दारों द्वारा क़ब्ज़ा की गयी हज़ारों एकड़ शासकीय भूमि को छुड़ाने के लिये भी शिवराज सरकार दिखायेगी ?
ऐसी घटना बर्दाश्त नहीं की जा सकती है। इसके दोषियों पर तत्काल कड़ी कार्यवाही हो , अन्यथा कांग्रेस चुप नहीं बैठेगी।
3/3

— Office Of Kamal Nath (@OfficeOfKNath) July 15, 2020
इसी तरह के अपडेट पाने के लिए इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर जरूर करें। धन्यवाद !
 
खबरों के लिए इस न्यूज़ को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और अपडेट्स पाते रहें।
https://www.updated24.com/

Comment