सिंगरौली किसान: किसानो के आत्महत्या का कोई और कारण नही बल्कि यह सिस्टम है। तहसीलदार ने फ़ेक दिया आवेदन

किसानों के साथ किये जा रहे अत्याचार की शिकायत जन सुनवाई मे करने पर तहसीलदार सिंगरौली के द्वारा फेके गये आवेदन, किसान हो रहा  परेशान।

ऐसा ही सिंगरौली जिले के बैढ़न ब्लाक अंतर्गत विहरा गांव का मामला सामने आया है जहाँ बिहरा गांव के निवासी सीताराम विश्वकर्मा के सम्पूर्ण कथन अनुसार उनकी भूमि आरजी नम्बर 288/1,पावर ग्रिड  द्वारा निर्मित किये जा रहे टावर क्रमांक 30/0 मे प्रभावित हुई है। 

ह भी पढ़े: सिंगरौली: लाठी से पीटकर बृद्ध की निर्मम हत्या आरोपी मौके से फरार

उक्त भूमि का तर्मिम हल्का पटवारी भुनेश्वर जायसवाल द्वारा कब्जे से भिन्न किया गया है जिसकी शिकायत 2018 में ही सिंगरौली प्रसासन एवं सी एम हेल्पलाइन में दर्ज कराई गई है जो आज तक लम्बित है। उक्त भूमि मे निर्मित किये जा रहे टावर का मुआवजा कब्जे अनुसार तर्मिम करते हुये दिलाए जाने के गुहार लगाई है जिसमे आवेदक सीताराम विश्वकर्मा के द्वारा जन सुनवाई मे आवेदन दिनांक 18 जून 2019 को दिया जन सुनवाई मे प्राप्त आवेदन के आधार पर जिला दण्डाधिकारी सिंगरौली  के आदेसानुसार हल्का पटवारी भुनेस्वर जायसवाल के द्वारा दिनांक 19 जून 2019 को भूमि की पैमाइश कर प्रतिवेदन तैयार किया गया।

पटवारी द्वारा सरकारी भूमि घोषित की गई है, जांच के लिए कलेक्टर को दिया गया आवेदन

पटवारी प्रतिवेदन में उल्लेख  किया गया है की भूमि अराजी नंबर 288 मे टावर के दो पाया निर्मित किये गये है तथा दो पाया अराजी नम्बर  287 मध्य प्रदेश शासन  मे निर्मित किये गये है। तथा तर्मिम कब्जे के भिन्न मे किया गया है, जो कार्यवाही हेतु जिला दण्डाधिकारी महोदय की ओर प्रेषित किया गया जिसका नकल भी आवेदक को प्राप्त हुई है, किन्तु मुआवजा का  प्रतिवेदन हल्का पटवारी एवं  पावर ग्रिड के अधिकारी मुकेश सिंह के द्वारा सिंगरौली प्रसासन एवं आवेदक से पृथक होकर तैयार किया गया। हल्का पटवारी प्रदेश सासन की भूमि लिखी गई। हल्का पटवारी  के द्वारा एक ही भूमि एवं जगह का भिन्न- भिन्न रिपोर्ट तैयार किया गया तथा हड़प नीति के माध्यम  से आवेदक का मुआवजा हड़प लिया गया, जिसकी सिकायत भी सिंगरौली तहसीलदार एवं जन सुनवाई मे की गई, तहसीलदार के द्वारा टीम गठित कर भेजी गई जिसमे दल प्रभारी के द्वारा भूमि की पैमाइश की गई। जिसमे दो पाया मे भूमि प्रभावित पायी गई तथा एक पाया आवेदक के भूमि मे बताया गया। 

Read also- मध्य प्रदेश: 90%🔻कम हो गई गाय और गौशाला का वजट, जानिए गौशाला का नया वजट क्या है ?

पुलिस द्वारा आवेदक को धमकाया जा रहा है 

दल प्रभारी के द्वारा भी रिपोर्ट तैयार नही किया गया, बल्कि पुलिस बल के माध्यम से भुनेश्वर जायसवाल द्वारा आवेदक को धमाका करके प्रतिवेदन तैयार करके हस्ताक्षर भी करा लिया गया। दल प्रभारी भूमि की पैमाइश करते हुये ही किसी दुसरे व्यक्ति के साथ चले जाने के कारण हल्का पटवारी के द्वारा आर्थिक रुप से शोषण किया जाता है, एवं पटवारी व दल प्रभारी के द्वारा कि गई भूमि कि पैमाइश मे भिन्नता पायी जाती है। आवेदक के भूमि मे अप्रैल 2019 से आज तक लगभग 3-4 फुट पत्थर भी रखा गया है जिससे आवेदक धान  की रोपाई करने मे परेसान रहा है जिसकी सिकायत भी जन सुनवाई मे दी गई है, लेकिन आज तक पावर ग्रिड के द्वारा आवेदक के भूमि मे से पत्थर को नही हटाया गया।

उक्त मामले की धरती

Students travel for miles in Morni village of Haryana. Sonu Sood helped by giving Smartphone

फाऊंडेसन के समय आवेदक के भूमि से कई फसलें व पैधे क्षति ग्रस्त हुये है, जिसकी नोटीस आवेदक को दी गई है, लेकिन मुआवजा नही। पटवारी का बोल है की मै सभी पटवारीयो का बाप हूँ, मेरे साथ पटवारी संघ है मेरा कोई कुछ नही कर सकता, मेरा लोकायुक्त पुलिस तक कुछ नही कर सकी तो बिहरा के भू स्वामी क्या करेंगे। ऐसे भ्रष्ट पटवारी के विरुद्ध आज तक सासन, प्रसासन के द्वारा कोई कार्यवाही नही की गई। सिंगरौली जिला प्रसासन द्वारा ऐसे भ्रष्ट पटवारी के खिलाफ कार्यवाही नही की जा रही है जिससे गरिब किसान परेशान हो रहे है।

कलेक्टर सिंगरौली को दी गई गलत रिपोर्ट

  हल्का पटवारी भुनेश्वर जायसवाल  के द्वारा उक्त भूमि का तर्मिम कब्जे के भिन्न किया गया तथा जन सुनवाई मे शिकायत करने पर भुनेश्वर जायसवाल के द्वारा ही जिला दण्डाधिकारी के समक्ष गलत रिपोर्ट दी गई, आवेदक  कि भूमि का तर्मिम उत्तर-पश्चिम से होना चाहिये जो कि उत्तर-दक्षिण से हो गया है। पटवारी के द्वारा आवेदक के साथ कि गई गलती को रीपोर्ट  के माध्यम से स्वीकार किया, फिर भी सिंगरौली प्रसासन द्वारा भ्रस्ट पटवारी के विरुद्ध कोई कार्यवाही नही कि गई और न ही आवेदक कि भूमि का तर्मिम कब्जे अनुसार आज तक किया गया। आखिर आवेदक किससे गुहार लगाये की उक्त भूमि का तर्मिम कब्जे अनुसार हो सके, साथ ही पावर ग्रिड के द्वारा मुआवजा मिल सके एवं उक्त्त भूमि मे पावर ग्रिड द्वारा रखा गया पत्थर हटाया जा सके।

खबरों के लिए इस न्यूज़ को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और अपडेट्स पाते रहें।
https://www.updated24.com/

Comment